corona virus and vitamin D

Vitamin D corona से लड़ने में कितना मददगार

The Papers

Corona virus के संक्रमण से बचने के लिए क्या Vitamin D मददगार साबित हो रही है? रिसर्च ओं के बीच Vitamin D को लेकर बहुत से सवाल उठ रहे हैं.
ब्रिटेन की सेहत और पोषण को लेकर काम करने वाली संस्था साइंटिफिक एडवाइजरी कमीशन ऑफ न्यूट्रिशन एंड नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ एंड केयर एक्सीलेंस Vitamin D की corona को लेकर एक रिपोर्ट तैयार की है

क्या सलाह है Vitamin D को लेकर?
जहां ज्यादातर लोग corona virus के दौरान अपने घरों में बंद है ऐसे में Vitamin D की कमी शरीर में कम होना लाजमी है जब लोग घरों से बाहर ज्यादा वक्त गुजारते हैं तो त्वचा को आवश्यक धूप मिलती है और भरपूर रूप में विटामिन डी बनती है और यह प्राकृतिक सूत्र हमारे लिए बहुत ही लाभकारी साबित होते हैं ब्रिटेन की एक नेशनल हेल्थ सर्विस का यह भी कहना है कि कोरोना महामारी के दौर में लोगों को हर दिन कम से कम 10 माइक्रोग्राम विटामिन डी लेनी चाहिए यह खासकर उन लोगों के लिए ज्यादा महत्वपूर्ण है जो अपने घरों में समय बिता रहे हैं ब्रिटेन में तो महामारी से पहले भी अक्टूबर से लेकर मार्च के महीने तक विटामिन डी को लेने की सलाह दी जाती है पर पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड (पीएचई) ने घरों में रहने वाले लोगों को विटामिन डी की सप्लीमेंट लेने की सलाह दी है पीएचई का कहना है कि जो लोग बाहर नहीं जा पा रहे हैं और घर में ही बंद है उन्हें विटामिन डी लेना बहुत जरूरी है

विटामिन डी की गोलियां क्या सभी को लेनी चाहिए

Corona virus and vitamin D

भारतीय महिलाओं में क्यों है विटामिन डी की कमी

  • क्या खाएं कि आपकी बॉडी से कोरोना वायरस हार जाए
  • विटामिन डी जिन्हें पूरे साल लेने की जरूरत है
  • जो घर से बाहर अक्सर नहीं जाते हैंजो लोग केयर होम में रहते हैं
  • जिनकी त्वचा ज्यादातर समय कपड़ों से ढकी हुई रहती है
  • जिन लोगों की त्वचा ज्यादातर भूरिया काली है उन्हें पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी नहीं मिल पाती है क्योंकि वह लोग डॉन में निकल भी नहीं पा रहे हैं ऐसे में उन्हें पूरे साल विटामिन डी लेनी चाहिए स्कॉटलैंड और वेल्स के सरकारों के अलावा उत्तरी आयरलैंड के कुछ पब्लिक हेल्थ एजेंसी में भी चल रहे लॉकडाउन में कुछ इसी तरह की सलाह लोगों को दी है

विटामिन डी की जरूरत हमें क्यों है यह बहुत ही जरूरी तथ्य है कि हमें अपनी मजबूत और स्वस्थ हड्डियों दांतो और मांस पेशियों के लिए विटामिन डी की बहुत आवश्यकता होती है जैसे हमारे शरीर में विटामिन डी की कमी महसूस होती है हमारी हड्डियां अक्सर कमजोर हो जाती है बच्चों में तो सूखे की बीमारी हो जाती है और वयस्कों में इसकी कमी के कारण ऑस्टिन लेसा बीमारी हो जाती है

रिसर्च ओं ने तो यह भी माना है कि विटामिन डी से शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता अक्सर प्रभावी रहती है और संक्रमण में इससे लड़ने में बहुत मदद मिलती है कुछ स्टडी का तो यह भी मानना है कि अगर हमारे शरीर में विटामिन डी की उपलब्धता पर्याप्त मात्रा में मौजूद है तो यह में सामान्य जुकाम और फ्लू से भी बचा के रखती है हालांकि साइंटिफिक एडवाइजरी कमिटी ऑफ न्यूट्रीशन इस बात को माना है कि सीने मे संक्रमण को रोकने के लिए विटामिन डी की इलाज बहुत जरूरी है

क्या करोना को विटामिन डी से रोका जा सकता है नेशनल एट्टीट्यूड इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ एंड केयर एक्सीलेंस ने Vitamin D पर की गई सर्च में यह बताया कि इसके कोई सबूत नहीं है जिसके आधार पर यह कहा जाए कि विटामिन डी के सप्लीमेंट से कोरोना को रोका जा सकता है लेकिन विशेषज्ञों की राय माने तो महामारी के वक्त में विटामिन डी के टेबलेट के बहुत सारे फायदे हैं और इसकी मौजूदगी पर्याप्त मात्रा में बनाए रखने की जरूरत है विटामिन डी कुछ खास चीजों के लिए भी जानी जानी चाहिए ना कि बस करोना के इलाज के तौर पर यदि हमारे शरीर में विटामिन डी की मात्रा पर्याप्त रहता है तो हमारा शरीर स्वस्थ रहता है रिसर्च में तो यह भी कहना है कि अगर किसी व्यक्ति के शरीर में विटामिन डी की कमी है तो वह करोना वायरस से जल्दी ही संक्रमित हो जाता है और उसके बाद उसे ठीक करना थोड़ा मुश्किल हो जाता है जैसे कि कोरोना पीड़ितों में हार्ट की बीमारी भी एक आम बात है इसीलिए किसी भी नतीजे पर पहुंचना आसान नहीं है लिवरपूल यूनिवर्सिटी में मेडिसिन के प्रोफेसर जॉन रोड ने यह भी कहा है कि Vitamin D में शक्ति होती है और कुछ रिसर्च के मुताबिक जब corona virus शरीर पर अटैक करता है तब शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है और Corona Virus की वजह से जिनका बुरी तरह प्रभावित हुआ है उनमें Vitamin D प्रासंगिक हो सकती है लेकिन इस बात के लिए अभी और रिसर्च करने की जरूरत है

क्या बहिष्कार Facebook को खत्म कर सकता है? क्या नस्लवाद के खिलाफ अभियान से कंपनी खत्म हो जाएगी?

Vitamin D की डोज क्या लेनी चाहिए? नहीं हालांकि विटामिन डी की सप्लीमेंट बहुत ही सुरक्षित मानी जाती है लेकिन अगर आप डॉक्टर से बताइए दोस्त से ज्यादा लेते हैं तो यह लंबी अवधि के लिए खतरनाक भी हो सकती है विटामिन डी की सप्लीमेंट लेते वक्त कुछ बातों का जरूर ध्यान रखें

  • 1 से 10 साल के बच्चों को 1 दिन में 50 माइक्रोग्राम से ज्यादा Vitamin D नहीं देनी चाहिए
  • शिशु 12 ( महीने से नीचे को) 1 दिन में 25 माइक्रोग्राम से ज्यादाVitamin Dनहीं देनी चाहिए
  • वयस्कों को 1 दिन में 100 माइक्रोग्राम से ज्यादा Vitamin D नहीं लेनी चाहिए
  • इससे ज्यादा Vitamin D की डोज डॉक्टर जब दामिनी की भारी कमी या फिर विषम परिस्थितियां होती है तो देते है
  • Vitamin D सप्लीमेंट उनके लिए सुरक्षित नहीं है जिन्हें किडनी की समस्या है

कहां से Vitamin D की सप्लीमेंट खरीदी जा सकती हैं
Vitamin D की सप्लीमेंट कोई दुर्लभ चीज नहीं है या आपको किसी भी मेडिकल स्टोर पर बहुत ही आसानी से मिल सकती है Vitamin D गोलियां के रूप में होती है या फिर मल्टीविटामिन टेबलेट के रूप में भी आपको मिल जाती है विशेषज्ञों का माने तो जितनी जरूरत हो उतनी ही आप Vitamin D की सप्लीमेंट खरीदें बच्चों के लिए इसकी ड्रॉप उपलब्ध होती है
Vitamin D और आहार
जब आप एक संतुलित आहार लेते हैं तो आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता यानी इम्यून सामान्य बना रहता है ऐसी स्थिति में किसी भी व्यक्ति को अलग से कुछ भी विटामिन या मल्टीविटामिन की टेबलेट लेने की जरूरत नहीं पड़ती है लेकिन पर्याप्त मात्रा में Vitamin D खोजना आहार में भी मुश्किल हो जाता है जैसे कि संतुलित आहार अच्छी सेहत के लिए जरूरी है वैसे ही हमें पता होना चाहिए कि आहार में कौन-कौन सी विटामिन पाई जाती है Vitamin D मछली और अंडे में पाई जाती है इसके अलावा अनाज, कृत्रिम मक्खन और दही में Vitamin D होता है
क्या Vitamin D के लिए हमें धूप लेनी चाहिए
केवल धूप लेने से ही अगर आप सोचते हैं कि आप विटामिन डी की कमी को पूरी कर लेंगे तो यह संभव नहीं है धूप लेने में भी आपको कुछ सावधानी बरतने की जरूरत होती है जैसे कि दूध लेने से संबंध होता है और सनबर्न से बचने के लिए आपको अपनी त्वचा को ढक लेना चाहिए या फिर कोई अच्छी संस्कृत लगानी चाहिए जिससे त्वचा पर पड़ने वाले नुकसान से बचाया जा सके

गर्भवती महिलाओं, शिशुओं और बच्चों को Vitamin D के लिए क्या करना चाहिए

  • मां के दूध पीने वाले बच्चों को जन्म के समय से ही हर रोज 1 साल तक Vitamin D का 8 पॉइंट 5 से 10 माइक्रोग्राम की सप्लीमेंट देनी चाहिए
  • जो बच्चे मां के दूध नहीं पीते हैं उन्हें तब तक Vitamin D की सप्लीमेंट नहीं देनी चाहिए जब तक इसका स्तर 500ml से कम ना हो ऐसा इसीलिए किया जाता है क्योंकि इन बच्चों को जो आहार दिया जाता है उनमें Vitamin Dपहले से ही मौजूद होती है
  • 1 से 4 साल तक के बच्चों को हर दिन Vitamin D के 10 माइक्रोग्राम की सप्लीमेंट देनी चाहिए स्तनपान कराने वाली महिला और गर्भवती महिला को भी हर दिन Vitamin D की 10 माइक्रोग्राम की सप्लीमेंट लेनी चाहिए
Please follow and like us:
Social Share Buttons and Icons powered by Ultimatelysocial
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)

error: Content is protected !!